• 17:24 Oct 24, 2020

Advertisement

By: TMI नेटवर्क, The Mobile Indian, New DelhiLast updated : November 26, 2018 4:55 pm

जेंडर और सोनी इंडिया साझेदारी में तैयार करेंगे नेटफ्लिक्स का इंडियन वर्जन

मोबाइल फाइल ट्रांसफर और शेयरिंग एप जेंडर ने अपने मूवी चेन प्रोजेक्ट के लिए सोनी इंडिया के साथ साझेदारी की घोषणा की है। जिसके तहत दोनों कंपनियां दरअसल नेटफ्लिक्स का इंडियन वर्जन बनाकर पेश करेंगी। 

 

इससे पहले भी जेंडर कई टॉप बॉलीवुड स्टूडियोज के साथ साझेदारी कर चुका है, जिसमें कि पीवीआर, ईरोज, यशराज फिल्म, शेमारू और वायकॉम 18 शामिल हैं। जिसके तहत ही इन सभी मूवी स्टूडियोज की फिल्में जेंडर के मूवी प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध हैं। बता दें कि कंपनी के अनुसार इस मूवी प्लेटफॉर्म पर 1000 से ज्यादा नई और लोकप्रिय बॉलीवुड और हॉलीवुड फिल्में मौजूद हैं।

 

कंपनी के अनुसार जेंडर मूवी का फोकस खास रुप से माइक्रोपेमेंट यानी छोटे भुगतान पर है। जिसके तहत यूजर्स किसी भी समय कम से कम दाम पर (10 रुपये से लेकर 50 रुपये प्रति फिल्म) के हिसाब से कई बॉलिवुड या हॉलिवुड ब्लॉकबस्टर फिल्में देख सकते हैं। जेंडर से फिल्मों का कॉपीराइट रखने वालों के लिहाज से फिल्मों की बिक्री में बढ़ोतरी होगी क्योंकि हर मूवी सीधे लाखों यूजर्स तक पहुंचेगी। 

 

सोनी पिक्चर्स के वरिष्ठ विशेषज्ञ गौरव नागपाल का इसके बारे में कहना है कि “इससे पहले चीन की कंपनियां भारतीय बाजार में केवल इंडियन मूवीज को इंपोर्ट करने और चाइनीज मूवीज को एक्सपोर्ट करने में ही मदद करती थी, पर अब जेंडर ने लाखों भारतीय जेंडर यूजर्स के उपयोग के तरीकों और विकेंद्रीयकृत डिवाइस टु डिवाइस ऑफलाइन वितरण प्रणाली के लिए एक नया और क्रांतिकारी मॉडल विकसित किया है। इस प्रॉडक्ट से मोबाइल टर्मिनल से मूवी इंडस्ट्रीज का प्रसार शुरू होने की उम्मीद है। उन्होंने सुझाव दिया कि इंटरनेट के तेजी से बदलते दौर में सभी प्रमुख मूवी स्टूडियोज,डिस्ट्रिब्यूशन कंपनियों और सिनेमा निर्माताओं को तेजी से नए बदलाव को अपनाने के तरीके सीखने चाहिए।''

 

जीरो से लेकर जंबो और ऑनलाइन से ऑफलाइन तक यह बदलाव केवल बॉलीवुड मूवीज के लिए डिस्ट्रिब्यूशन चैनल में बदलाव का संकेत नहीं है, इससे यह भी संकेत मिलता है कि कला, शिक्षा और अन्य मूल्यों  का समाज में प्रसार करने की फिल्में सशक्त माध्यम है। यह समाज के परंपरागत रूप से उपेक्षित बड़े वर्ग की आवाज भी उठाती हैं। जो लोग सिनेमा के महंगे टिकटों और सिनेमा हॉल में लाइन में लगने के डर से सिनेमा हॉल का रुख नहीं करते, उन्हें भी अपेक्षाकृत कम दाम पर नई फिल्मों का आनंद उठाने का मौका मिल सकता है। इन सभी पॉइंट्स को जोड़कर देखा जाए तो यह नए बाजार और नए ऑडियंस की ओर संकेत करते हैं।

 

इस बारे में जेंडर और मूवी चेन प्रोजेक्ट के संस्थापक पीटर जियांग का कहना है कि ''सोनी के साथ की गई इस डील से जेंडर ने अपने लक्ष्य, नेटफ्लिक्स के ऑफलाइन वर्जन, की ओर कदम बढ़ाया है। हालांकि इंडस्ट्री में बदलाव के लिए एक जेनरेशन के लोगों के प्रयास की जरूरत है और इसलिए इसका लुत्फ जनसमूह को उठाना चाहिए। अब सिनेमा और ऑनलाइन स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म फिल्म इंडस्ट्री पर एकाधिकार नहीं जमा सकते। जब अगले दौर में इंटरनेट क्रांति दुनिया के सभी विकासशील देशों में होगी तो इस क्षेत्र में और ज्यादा खिलाड़ी उतरेंगे।''

 

फेसबुक पर भी टेक खबरों से जुड़े रहने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज

You might like this



Tags: सोनी इंडिया जेंडर नेटफ्लिक्स

Advertisement

You might like this