• 08:48 Dec 19, 2018

Advertisement

By: पूनम शंकर, The Mobile Indian, New DelhiLast updated : November 29, 2018 6:06 pm

वॉट्सएप ने जारी किया नया फॉरवर्डेड मैसेज फीचर, फेक न्यूज की पहचान होगी अब आसान

वॉट्सएप ने फेक न्यूज की पहचान को ध्यान में रखते हुए एक नया फीचर जारी किया है जिससे कि सभी फॉरवर्डेड मैसेज्स पर अब लिखा मिल जाएगा कि ये संदेश फॉरवर्ड किया गया है। यानी अब से यूजर्स किसी के भी भेजे गए मैसेज की आसानी से पहचान कर सकते हैं कि उन्हें किसी ने ऑरिजनल मैसेज भेजा है या वो फॉरवर्डेड है। दरअसल वॉट्सएप के इस नए फीचर के तहत मैसेज के साथ ही यूजर को लेबल के रुप में लिखा दिखाई देगा कि वो मैसेज फॉरवर्ड किया गया है।

 

कंपनी के अनुसार उन्होंने ये नया फीचर एंड्रॉयड व iOS यूजर्स के लिए दुनियाभर में जारी कर दिया है। मगर सभी यूजर्स तक पहुंचने में इसे थोड़े दिनों का समय लगेगा। हालांकि इस नए फीचर के तहत मैसेज में लेबल देखने के लिए यूजर्स को वॉट्सएप का लेटेस्ट वर्जन इंस्टॉल अपने फोन में करना होगा। जानकारी के लिए बता दें कि इस फीचर को सबसे पहले जून के समय एंड्रॉयड बीटा वर्जन पर देखा गया था। उस समय हमने इसका प्रयोग भी किया था और उसके अनुसार एप में इसका कोई अन्य ऑप्शन नहीं मिलता कि इसे फॉरवर्डेड के लेबल को हटाया या डिस्एबल कैसे जा सकता है।

 

इसका सीधा मतलब है कि इसमें किसी भी मैसेज को फॉरवर्ड करने से पहले थोड़ा सोचना होगा। इसके साथ ही बता दें कि दरअसल ये लेबल तब ही काम करता है, जब आप असल में किसी को भेजा गया मैसेज फॉरवर्ड करते हैं, यदि आप किसी मैसेज को कॉपी करके अन्य चैट में पेस्ट करके भेजते हैं तो वो सामान्य मैसेज की तरह ही रिसीव होगा।

 

इसके अलावा हाल ही में कंपनी स्पैम लिंक्स से छुटकारे व उनकी पहचान के लिए एक नए फीचर पर काम कर रही है जोकि सस्पिशियस लिंक डिटेक्शन फीचर के नाम से है। इसकी मदद से दरअसल कोई भी स्पैम लिंक स्कैन होने के बाद ब्लॉक हो जाएगा जिससे कि न ही इसे कोई भेज सके और न कोई रिसीव कर सके। जैसे कि यदि आपको कोई वॉट्सएप पर लिंक भेजता है तो वो सबसे पहले स्कैन किया जाएगा, जिसमें उसकी पहचान होगी कि ये असली है या नकली। अगर लिंक संदेहजनक हुआ तो यूजर को रेड लेबल के माध्यम से नोटिफाई किया जाएगा।

 

इसके बाद भी यदि कोई यूजर उस लिंक को खोलना चाहता है तो वॉट्सएप द्वारा उसे दोबारा अलर्ट किया जाएगा। जिसके तहत उन्हें एक संदेश नजर आएगा जिसमें लिखा होगा “This link contains unusual characters. It may be trying to appear as another site.'' जिसका मतलब है कि इस लिंक में कुछ संदेहजनक पाया गया है और ये अपनी असली पहचान छुपाते हुए किसी अन्य साइट के जैसे दिखने की कोशिश कर रही है।

 

दरअसल सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म वॉट्सएप द्वारा फैल रही अफवाह और इससे हुई हिंसा के बीच भारत सरकार ने हाल ही में वॉट्सएप को इस पर लगाम लगाने के लिए कहा था। जिसके बाद मंगलवार को वॉट्सएप ने फर्जी खबर व अफवाहों को रोकने के लिए भारत के कई प्रमुख अखबारों में पूरे पन्ने का विज्ञापन जारी किया है। इस विज्ञापन में वॉट्सएप द्वारा यूजर्स को फर्जी खबरों को पहचानने के लिए 10 टिप्स के माध्यम से समझाया गया है। जैसे कि फॉरवर्ड किए गए संदेशों से सावधान रहना जरूरी बताया है। इसके अलावा ऐसी जानकारी के तथ्यों पर सवाल उठाएं जो आपको परेशान करती हैं।

 

whatsapp-ad-fake-new

 

यदि अगर आप मैसेज में कुछ ऐसा पढ़ते हैं जिससे आपको क्रोध आता है या डर लगता है, तो यह जानने की कोशिश करें कि क्या उस मैसेज का मकसद आपके मन में नफरत फैलाना है या नहीं। अगर जवाब 'हां' है तो इसे अन्य को शेयर न करें।

 

इसके साथ ही ऐसी जानकारी की जांच करें जिसपर यकीन करना कठिन हो क्योंकि वो अक्सर सच नहीं होेते। ऐसे में गूगल या अन्य सोर्स से पता करें कि जानकारी सच्ची है या नहीं। यूजर्स अपने वॉट्सएप के संदेशों में मौजूद फोटो को ध्यान से देखें दरअसल उन्हें आपको गुमराह करने के लिए एडिट किया जाता है। कभी-कभी फोटो या वीडियो सच्ची होती है लेकिन उसके साथ खबर या कहानी झूठी होती है। इसलिए आप उस फोटो या वीडियो की इंटरनेट पर जांच करें।

 

 

फेसबुक पर भी टेक खबरों से जुड़े रहने के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज

You might like this



Tags: वॉट्सएप वॉट्सएप फॉरवर्डेड मैसेज वॉट्सएप फीचर्स वॉट्सएप इंडिया एप्स

Advertisement